महिला एवं बाल विकास मंत्री की अध्यक्षता में राष्ट्रीय चयन समिति ने प्रधानमंत्री राष्ट्रीय बाल पुरस्कार 2019 के लिए विजेताओं के नामों को अंतिम रूप दे दिया है। ये पुरस्कार नवाचार, अध्ययन, खेल, कला, संस्कृति, सामाजिक सेवा, संगीत या अन्य क्षेत्रों में शानदार उपलब्धियां हासिल करने वाले बच्चों को दिए जाते हैं। यह पुरस्कार पारंपरिक रूप से राष्ट्रपति पुरस्कार प्रदान करते हैं।
इस योजना के तहत पुरस्कारों के दो वर्ग हैं। पहले वर्ग का बाल शक्ति पुरस्कार व्यक्तिगत रूप से दिया जाता है और दूसरे वर्ग का बाल कल्याण पुरस्कार उन संस्थानों/व्यक्तियों को दिया जाता है जो बच्चों के लिए काम करते हों। इस वर्ष बाल शक्ति पुरस्कार के लिए 783 आवेदन प्राप्त हुए हैं। राष्ट्रीय चयन समिति ने बाल कल्याण पुरस्कार के तहत दो व्यक्तियों और तीन संस्थानों के नामों को अंतिम रूप दिया है।

उल्लेखनीय है कि बहादुरी के लिए पुरस्कारों का प्रबंधन आईसीसीडब्ल्यू नामक एक गैर-सरकारी संगठन करता था। सरकार इन पुरस्कारों के विजेताओं को प्रोत्साहित करती थी। हाल में दिल्ली हाईकोर्ट ने एक याचिका की सुनवाई के दौरान आईसीसीडब्ल्यू की वित्तीय हैसियत पर सवाल उठाया था। इसके बाद सरकार ने आईसीसीडब्ल्यू से खुद को अलग कर लिया और बहादुरी के लिए दिए जाने वाले पुरस्कार को भी प्रधानमंत्री राष्ट्रीय बाल पुरस्कारों में शामिल कर लिया गया।
Share To:

News For Bharat

Post A Comment:

0 comments so far,add yours