भारतीय प्रतिस्पर्धा आयोग ने 18 दिसंबर, 2018 को अहमदाबाद में प्रतिस्पर्धा कानून पर तीसरे रोड शो का आयोजन किया। इस रोड शो की थीम- सरकारी खरीद, व्यापार संघ, उत्पादक संघ, व्यापारिक गुटबंदी और लेन-देन थी। कॉरपोरेट मामलों के मंत्रालय के अंतर्गत इंडियन इंस्टीट्यूड ऑफ कॉरपोरेट अफेयर्स (आईआईसीए) इस रोड शो का सह-आयोजक था। यह रोड शो पूरे देश में प्रतिस्पर्धा कानून पर किए जाने वाले विभिन्न कार्यक्रमों का हिस्सा था। इस रोड शो में उद्योग जगत, व्यापार संघों, लेखा परीक्षकों, कम्पनी सचिवों, वकीलों और शोधार्थियों को एक साझा मंच प्रदान किया। प्रतिस्पर्धा से जुड़े विभिन्न मामलों पर सक्रिय परिचर्चा हुई।

कार्यक्रम के मुख्य अतिथि गुजरात के मुख्यमंत्री श्री विजय रूपाणी ने अपने उद्घाटन भाषण में कहा कि व्यापार सुविधा और आर्थिक विकास के लिए गुजरात पारम्परिक रूप से प्रतिस्पर्धा को एक प्रमुख नीति मानता रहा है। राज्य में व्यापार के विकास का प्रमुख कारण उद्योग के बीच प्रतियोगिता है। परस्पर प्रतिस्पर्धा के आधार पर ही गुजरात अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर प्रतियोगिता करने में सक्षम हुआ है। श्री रूपाणी ने इस बात को रेखांकित किया कि राज्य में कार्यबल पांच प्रतिशत है लेकिन राज्य, देश के कुल निर्यात में 22 प्रतिशत का योगदान देता है। राज्य सरकार एसएमई क्षेत्र के विकास के लिए समर्थन प्रदान करती है। यह क्षेत्र रोजगार और आर्थिक विकास में महत्वपूर्ण योगदान देता है। उन्होंने अहमदाबाद में रोड शो आयोजित करने के लिए सीसीआई को धन्यवाद दिया।
गुजरात के मुख्य सचिव डॉ. जे.एन. सिंह ने प्रतिस्पर्धा कानून के प्रति जागरुकता बढ़ाने के लिए सीसीआई के प्रयासों की सराहना की।
भारतीय प्रतिस्पर्धा आयोग के चेयरमैन श्री अशोक कुमार गुप्ता ने कहा कि आयोग गैर-प्रतिस्पर्धा अभ्यासों को समाप्त करना चाहता है और देश में प्रतिस्पर्धा को प्रोत्साहित करना चाहता है। उन्होंने कहा कि आयोग और अधिनियम दोनों ही उपभोक्ता और व्यापार अनुकूल है।
गुजरात चैम्बर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री के अध्यक्ष डॉ. जेमिन आर. वासा ने अहमदाबाद में रोड शो आयोजित करने के लिए आयोग को धन्यवाद दिया। उन्होंने व्यापार में गुटबंदी के मामले पर चिंता व्यक्त करते हुए कहा कि इससे उपभोक्ताओं को ऊंची कीमत अदा करनी पड़ती है और व्यापारिक प्रतिस्पर्धा में कमी आती है।
रोड शो में दो खुले सत्रों का आयोजन किया गया। सरकारी खरीद विषय पर आयोजित पहले सत्र की अध्यक्षता गुजरात के गृह विभाग के अवर मुख्य सचिव श्री ए.एम. तिवारी ने की। व्यापार संघों, व्यापारिक गुटबंदी और लेन-देन विषय पर आयोजित दूसरे सत्र की अध्यक्षता सीसीआई के सदस्य श्री ऑगस्टीन पीटर ने की।
भारतीय प्रतिस्पर्धा आयोग की स्थापना प्रतिस्पर्धा अधिनियम, 2002 के अंतर्गत वर्ष 2003 में की गई थी।
Share To:

News For Bharat

Post A Comment:

0 comments so far,add yours