Fresh Updates

चंदरकोट में बचाव के लिए लॉन्च किया

  भारतीय वायु सेना के पश्चिमी वायु कमान ने 24 दिसंबर 2018 को 1040 बजे चंदरकोट हेलीपैड से उधमपुर की हॉवरिंग हॉक्‍स यूनिट के दो चीता हेलीकॉप्टरों को मामूली समय पहले मिली सूचना के आधार पर दुर्घटना से बचाव के लिए लॉन्च किया। प्रारंभिक जानकारी के अनुसारबडगाम से कानपुर जाने के लिए एक सिविल बस रामबन के पास घाटी में गिर गईजिसमें कई लोग हताहत हो गए। उधमपुर से चंदरकोट हेलीपैड के लिए टेकऑफ करने के लिए 1045 बजे, 02 हैलिकॉप्‍टर और 02 सेट चालक दल तैयार थेजहां शुरू में हताहतों को निकाला गया था। एक हैलिकॉप्‍टर के लिए 1050 बजे उड़ान भरने का संकेत मिलने परसह-पायलट अरुणिमा विधाते के साथ कप्तान के रूप में विंग कमांडर वी मेहता उधमपुर से हैलिकॉप्‍टर में सवार हुए। इस बीचआवश्यकता के बारे में मूल्‍यांकन के बादविंग कमांडर  वी.  मेहता के आह्वान परकप्तान के रूप में स्‍क्‍वाड्रन लीडर एस. के. प्रसाद और सह-पायलट के रूप में फ्लाइट लेफ्टिनेंट सिद्धांत यादव उधमपुर से हैलीकॉप्‍टर में सवार हुए। 

पहला हैलिकॉप्‍टर 1125 बजे चंदरकोट हेलीपैड पर उतरा और आईटीबीपी के गंभीर रूप से घायल 03  जवानों को उठाया। ये गंभीर रूप से घायल09 गंभीर जवानों में शामिल थे।
दूसरा हैलिकॉप्‍टर 1225 बजे उतरा और मेडिकल अटेंडेंट के साथ गंभीर रूप से घायल 02 अन्‍य जवानों को उठाया। सिविल हेलीकॉप्टर द्वारा 04 हताहतों को उठाया गया।
मिशन के प्रमुख कप्तान विंग कमांडर विशाल मेहता ने कहा कि  
 हेलीपैड के पूर्वी हिस्से में पावर स्टेशन और कई माइक्रोवेव टावरों के कारणहैलिकॉप्‍टरों को एकतरफा पहुंच करनी पड़ी और सिविल हेलीकॉप्टरों के साथ पूरी तरह से यातायात समन्वय के साथ उतारना पड़ा।
दोनों हैलिकॉप्‍टरों की जम्मू हवाई अड्डे के लिए आवाजाही रहीजहां घायलों के लिए एम्बुलेंस को तैयार रखा गया था।
हॉवरिंग हॉक्‍स के चालक दल ने भारतीय वायुसेना की उच्चतम परंपराओं को ध्यान में रखते हुए चरम व्यावसायिकता के साथ मिशन को अंजाम दिया।

No comments