Fresh Updates

एनएबीसीबी प्रत्‍यायन ने एशिया-प्रशांत क्षेत्र में मान्‍यता हासिल की

प्रमाणन निकायों के लिए राष्ट्रीय प्रत्‍यायन बोर्ड (एनएबीसीबी) ने एशिया-प्रशांत क्षेत्र में पेशेगत स्‍वास्‍थ्‍य एवं सुरक्षा प्रबंधन प्रणालियों (ओएचएसएमएस) के प्रत्‍यायन निकायों से जु़ड़े अपने प्रत्‍यायन कार्यक्रम के लिए समतुल्‍यता हासिल कर ली है।

    भारत के राष्‍ट्रीय प्रत्‍यायन निकाय एनएबीसीबी ने 19 दिसंबर, 2018 को प्रशांत क्षेत्र प्रत्‍यायन सहयोग (पीएसी) की बहुपक्षीय मान्‍यता व्‍यवस्‍था (एमएलए) पर हस्‍ताक्षर किए हैं।  
    ऐसे किसी भी उद्योग को एशिया-प्रशांत क्षेत्र में मान्‍यता हासिल होगी, जिसके पास एनएबीसीबी लोगो के साथ आईएसओ 45001 प्रमाण पत्र होगा। इस समकक्षता से भारतीय उद्योग जगत तत्‍काल लाभान्वित होगा, जो विभिन्‍न देशों विशेषकर एशिया-प्रशांत क्षेत्र को विभिन्‍न उत्‍पादों का निर्यात करता है। इसका उपयोग नियामकों द्वारा प्रमाणित इकाइयों (यूनिट) में भरोसा उत्‍पन्‍न करने के लिए किया जा सकता है, जैसा कि गोवा सरकार ने फैक्‍ट्री अधिनियम के तहत वार्षिक ऑडिट के बदले में एनएबीसीबी प्रत्‍यायन के तहत ओएचएसएमएस प्रमाणन को स्‍वीकार करके किया है।
     अब एनएबीसीबी यह सत्‍यापन करके विश्‍व बाजार में भारतीय वस्‍तुओं के निर्यात को सुविधाजनक बना सकता है कि ये वस्‍तुएं सक्षम प्रमाणन निकायों द्वारा अंतर्राष्‍ट्रीय मानकों के अनुरूप प्रमाणित की गई हैं।
      एनएबीसीबी प्रत्‍यायन  कार्यक्रम अंतर्राष्‍ट्रीय मानकों, आईएसओ/आईईसी 17021-1 और आईएसओ 45001 पर आधारित है, जो ओएचएसएमएस पर लागू है। पीएसी द्वारा दी जाने वाली मान्‍यता एनएबीसीबी के इस प्रदर्शन पर आधारित है कि यह अंतर्राष्‍ट्रीय मानकों, आईएसओ/आईईसी 17011 के अनुरूप है, इस पर लागू है और इसे इस क्षेत्र में प्रमाणन निकायों के प्रत्‍यायन के लिए ओएचएसएमएस में सक्षमता हासिल है। एनएबीसीबी ने वर्तमान में पेशेगत स्‍वास्‍थ्‍य और सुरक्षा प्रबंधन प्रणालियों के लिए 6 प्रमाणन निकायों को प्रत्‍यायित किया है।
      एनएबीसीबी इस क्षेत्र में अंतर्राष्‍ट्रीय दृष्टि से समतुल्‍य बनने वाला एशिया-प्रशांत क्षेत्र का तीसरा प्रत्‍यायन निकाय है। इनमें से अन्‍य दो हांगकांग और मेक्सिको के प्रत्‍यायन निकाय हैं। पीएसी युक्‍त एमएलए से पूर्ण अंतर्राष्‍ट्रीय समकक्षता हासिल करने के लिए अंतर्राष्‍ट्रीय प्रत्‍यायन फोरम (आईएएफ) के साथ एमएलए पर हस्‍ताक्षर करने में सुविधा होगी। आईएएफ से जुड़ा हस्‍ताक्षरकर्ता सदस्‍य दर्जा यह रेखांकित करता है कि पेशेगत स्‍वास्‍थ्‍य और सुरक्षा प्रबंधन प्रणालियों के लिए एनएबीसीबी द्वारा प्रमाणन निकायों का किया गया प्रत्‍यायन अंतर्राष्‍ट्रीय समतुल्‍य के रूप में स्‍वीकार्य होगा।
      एनएबीसीबी वर्ष 2002 में आईएसओ 9001 प्रमाणन निकायों के लिए, वर्ष 2007 में आईएसओ 14001 प्रमाणन निकायों के लिए, वर्ष 2013 में आईएसओ 17065 पर आधारित उत्‍पाद प्रमाणन निकायों, वर्ष 2013 में ही आईएसओ 17020 पर आधारित निरीक्षण निकायों, वर्ष 2014 में ग्‍लोबल गैप, वर्ष 2015 में आईएसओ 27001 के अनुरूप आईएसओ 22000 प्रमाणन निकायों एवं आईएसएमएस प्रमाणन निकायों के लिए और वर्ष 2018 में आईएसओ 50001 के अनुरूप ऊर्जा प्रबंधन प्रणाली हेतु अपने प्रत्‍यायन कार्यक्रमों के लिए अंतर्राष्‍ट्रीय समतुल्‍यता पहले ही हासिल कर ली है।
      प्रत्‍यायन से कारोबारियों और उनके ग्राहकों के लिए जोखिम कम हो जाता है, क्‍योंकि इसके तहत यह आश्‍वासन दिया जाता है कि प्रत्‍यायित प्रमाणन निकाय (सीबी) अपने प्रत्‍यायन दायरे में हासिल किये जाने वाले कार्य को पूरा करने में सक्षम हैं।     

No comments