Breaking News

कैबिनेट ने इंदौर मेट्रो रेल परियोजना को मंजूरी दी

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में मंत्रिमंडल ने इंदौर मेट्रो रेल परियोजना को मंजूरी दी है। जिसमें बंगाली स्क्वायर-विजय नगर-भावरशाला-एयरपोर्ट-पाटासिया-बंगाली स्क्वायर रिंग लाइन शामिल हैं। इस मार्ग की कुल लंबाई 31.55 किलोमीटर है जो इंदौर के सभी प्रमुख केंद्रों और शहरी क्षेत्रों को जोड़ेगा।

विवरणः
  1. रिंग लाइन की लंबाई 31.55 किलोमीटर है।
  2. रिंग लाइन बंगाली स्क्वायर-विजय नगर-भावरशाला-एयरपोर्ट-पाटासिया-बंगाली स्क्वायर तक होगी।
  3. रिंग लाइन पर स्टेशनों की संख्या 30 हैं।
  4. इस परियोजना से इंदौर शहर में सुरक्षित, विश्वसनीय और वहनीय यातायात प्रणाली उपलब्ध होगी जिसमें शहर के सभी प्रमुख केंद्र जुड़ेंगे। इससे दुर्घटनाओं, प्रदूषण, यात्रा के समय में कमी, ऊर्जा खपत, असामाजिक गतिविधियों में कमी आएगी तथा शहरी विस्तार और सतत विकास के लिए जमीन के इस्तेमाल में मदद मिलेगी।
  5. इस परियोजना की अनुमानित लागत 7500.80 करोड़ हैं और इसे चार वर्ष में पूरा किया जाएगा।
फायदेः
      मेट्रो रेल परियोजना से इंदौर की 30 लाख आबादी को प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से लाभ होगा और इस मेट्रो रेल गलियारे से रेलवे स्टेशन, बीआरडी स्टेशन, बसों के फीडर नेटवर्क, इंटरमीडियट पब्लिक ट्रांसपोर्ट तथा गैर-मोटरित यातायात के लिए बहुमॉडल समन्वय होगा। इस परियोजना में यात्री भाड़े के अलावा किराए और विज्ञापन, ट्रांजिट ओरियंटेड डेवलेपमेंट (टीओडी) और ट्रांसफर डेवलपमेंट राइट से कमाई होगी।
मेट्रो रेल गलियारे के आस-पास के आवासीय क्षेत्रों को बहुत लाभ होगा क्योंकि ये लोग अपने आसपास के स्टेशनों से शहर के विभिन्न इलाकों में सुगमता से पहुंच सकेंगे। रिंग लाइन स्मार्ट सिटी परियोजना के तहत शहर के घनी आबादी वाले इलाकों तथा नए विकसित हो रहे क्षेत्रों को रेलवे स्टेशन, एयरपोर्ट और एबीडी से जोड़ेगी।
मेट्रो रेल से स्थानीय निवासियों, यात्रियों ऑफिसों में काम करने वाले कर्मचारियों, छात्रों, दर्शकों और पर्यटकों को पर्यावरण अनुकूल तथा सतत सार्वजनिक यातायात का साधन उपलब्ध होगा।
प्रगतिः
  • इस परियोजना के क्रियान्वयन के लिए मध्य प्रदेश मेट्रो रेल कंपनी लिमिटेड का गठन किया गया है।
  • इंदौर मेट्रो रेल परियोजना के लिए केंद्र सरकार और मध्य प्रदेश सरकार समान आधार पर खर्च वहन करेगी तथा इसके लिए एशियाई विकास बैंक और न्यू डेवलेपमेंट बैंक से भी कुछ ऋण लिया गया।
  • मैसर्स डीबी इंजीनियरिंग एंड कंसल्टिंग जीएमबीएच को मैसर्स लुइ बर्जर एसएएस और मैसर्स जियोडाटा इंजीनियरिंग के साथ इंदौर मेट्रो रेल परियोजना के जनरल कंसल्टेंट के तौर पर नियुक्त किया गया है।
  • पहले सिविल कार्य पैकेज के लिए निविदाएं आमंत्रित की जा चुकी हैं और इन पर काम जल्द शुरू होगा।