वायुसेना के हेलीकॉप्टर ने हिमाचल प्रदेश के कुल्लू में ब्यास नदी में फंसे लोगों को सुरक्षित बाहर निकालने के लिए सफल अभियान चलाया। राज्य सरकार ने भारी बारिश के कारण उफन रही ब्यास नदी में फंसे लोगों को बचाने के लिए कल वायुसेना के पश्चिमी कमान से मदद का अनुरोध किया था। ब्यास नदी में बाढ़ आ जाने के कारण उसमें बीच-बीच में छोटे टापू जैसे बन गए थे, जिसमें लोग फंस गए थे।

      राज्य सरकार के अनुरोध पर नौसेना के सरसावा स्थित पश्चिमी कमान से फौरन एक एमएलएच श्रेणी का हेलीकॉप्टर मदद के लिए रवाना किया गया। हेलीकॉप्टर का संचालन स्क्वाड्रन लीडर विपुल गुप्ता और स्क्वाड्रन लीडर धीमान ने किया। यह हेलीकॉप्टर जैसे ही घटना स्थल पर पहुंचा वहां 19 लोग उफनती ब्यास नदी के छोटे से टापू में फंसे हुए थे। पायलट लोगों को टापू से निकालने के लिए हेलीकॉप्टर को काफी नीचे तक ले गए और चालक दल की मदद से उन्हें हेलीकॉप्टर में उठा लिया। बाद में इन सभी लोगों को भुंटर स्थित स्थानीय हवाई पट्टी पर उतारा गया।
      24 सितंबर के दिन भी दो लोगों को ब्यास नदी के छोटे से हिस्से में फंसे हुए देखा गया जिस पर इन्हें बचाने के लिए भुंटर में मौजूद हेलीकॉप्टर को भेजा गया। हेलीकॉप्टर के लिए उतरने की कोई जगह नहीं होने के कारण फंसे हुए दोनों लोगों को रस्सी के सहारे हेलीकॉप्टर में खींचा गया। स्क्वाड्रन लीडर विपुल गुप्ता ने बताया कि तेज हवाएं चलने तथा आसपास लंबे पेड़ और बिजली के उच्च क्षमता वाले तार होने की वजह से हेलीकॉप्टर को नीचे उतारना संभव नहीं था। इसलिए फंसे हुए दोनों लोगों को रस्सी के सहारे ऊपर खींचा गया।
      आगे किसी तरह के और बचाव की जरूरत के मद्देनजर हेलीकॉप्टर और उसके चालक दल को भुंटर हवाई पट्टी पर तैनात रहने के लिए कहा गया है।
Share To:

News For Bharat

Post A Comment:

0 comments so far,add yours