Breaking News

मुख्यमंत्री ने जनपद गोरखपुर में ८७.५७ करोड़ रू. की ३६ परियोजनओं का शिलान्यास किया


विकास का कोई विकल्प नही: मुख्यमंत्री
विकासकार्यों को समयबध्दता, गुणवत्ता एवं प्रतिबध्दता के साथ पूरा किया जाना आवश्यक
राज्य सरकार गरोबों के उत्थान हेतु सतत प्रयत्नशील है और उनके हित में अनेक जनकल्याणकारी योजनायें संचालित कर रही है
जनवरी-फरवरी, २०१९ तक गोरखपुर एम्स की ओ.पी.डी का संचालन प्रारंभ हो जायेगा
गोरखपुर एम्स में वर्ष २०२० तक एम.बी.बी.एस की पढाई के लिए छात्रों को प्रवेश दे दिया जायेगा
अक्टूबर २०१८ में बी.आर.डी मेडिकल कॉलेज में 8 नवीन सुपर स्पेशियलिटी ब्लोग्स का कार्य पूर्ण हो जायेगा और नवम्बर,२०१८ से इनमे लोगो को उपचार की बेहतर सुविधा भी मिलने लगेगी

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने कहा है कि विकास का कोई विकल्प नहीं होता । विकास के लिए सकारात्मक सोच आवश्यक है। विकास कार्यों का समयबद्धता, गुणवत्ता एव प्रतिबद्धता के साथ पूरा किया जाना आवश्यक है। यदि कार्य समयबद्ध ढंग से होता है तो राजस्व पर दबाव कम पड़ता है अन्यथा संशोधित लागत से राजस्व की हानि होती है। उन्होंने स्वच्छता को जीवन का हिस्सा बनाने और इस कार्य में सभी लोगों के आगे आने की आवश्यकता पर भी बल दिया है। मुख्यमंत्री जी आज गोरखपुर में कुल 87.57 करोड़ रुपये की 36 परियोजनाओं के शिलान्यास/लोकार्पण कार्यक्रम में अपने विचार व्यक्त कर रहे थे। उन्होने 30 करोड़ रुपये लागत की 9 परियोजनओं का शिलान्यास तथा 57.57 करोड़ रुपये की 27 परियोजनाओं का लोकार्पण किया। इस अवसर पर मुख्यमंत्रीजी ने प्रधानमंत्री आवास योजना (शहरी) व आसरा योजना के 7-7 लाभार्थियों को आवास की प्रतीकात्मक चाभी तथा प्रमाण पत्र एवं राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा योजना के 7 लाभार्थियों को अन्त्योदय/पात्र गृहस्थी का राशन कार्ड स्वयं प्रदान किया। इसके अतिरिक्त,बसफोड़ समुदाय के लाभार्थियों को आसरा योजना के तहत प्रमाण पत्र/आवास की प्रतीकात्मक चाभी भी दी गयी। इस दौरान कुल 151 लाभार्थियों को प्रमाण
पत्र/आवास की प्रतीकात्मक चाभी वितरित की गयी। इसमें आसरा आवास योजना के 100 तथा प्रधानमंत्री आवास योजना (शहरी) के 51 लाभार्थी शामिल थे। अपने सम्बोधन में मुख्यमंत्री जी ने लाभार्थियों के प्रति अपनी शुभकामनाएं व्यक्त करते हुए कहा कि वे अपने आवंटित आवासों में रहें। राज्य सरकार गरीबों के उत्थान हेतु सतत् प्रयत्नशील है और उनके हित में अनेक जनकल्याणकारी योजनाएं संचालित कर रही है। विकास योजनाओं को बिना भेदभाव समाज के अंतिम व्यक्ति तक पहुंचाने के लिए लगातार कार्य किया जा रहा है।

मुख्यमंत्री जी ने कहा कि सरकार द्वारा प्रदेश के ग्रामीण क्षेत्रों में 11 लाख
प्रधानमंत्री आवास (ग्रामीण) निर्मित कराये गये हैं। इनका एक साथ गृह प्रवेश अक्टूबर, 2018 के अन्त में कराया जायेगा। इसी प्रकार शहरी क्षेत्र में 4 लाख लोगों को आवास उपलब्ध कराये जाएंगे। जो लोग आवासविहीन हैं अथवा जिनके मकान जर्जर स्थिति में है, ऐसे जरूरतमन्द लोगों को आवास उपलब्ध कराने की दिशा में कार्य किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि जो लोग पहले झोपड़ियों एवं जर्जर मकानों में रहते थे, अब आवास मिल जाने से वे कह सकेंगे कि शहर में रहने के लिए उनके पास भी पक्का मकान है। इसकी खुशी लाभान्वित लोगों के चेहरे पर झलक रही है।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि सड़क के किनारे कार्य करने वाले बसफ़ोड़ समुदाय के लोग अपने आवंटित आवास में रहेंगे। उन्होंने ने खेतों के किनारे बांस के वृक्ष रोपित किये जाने की बात भी कही, ताकि इस समुदाय का परम्परागत रोजगार प्रभावित न हो। उन्होंने अधिकारियों को निर्देशित किया कि इनकी कलाकृतियों की बाजार में बिक्री की प्रभावी व्यवस्था सुनिश्चित करायी जाए। बसफोड़ समुदाय के स्वयं सहायता समूह गठित कराकर लोगों को स्वावलम्बी बनाया जाये। मुख्यमंत्री जी ने बताया कि प्रदेश में वेण्डरजोन विकसित किये जा रहे हैं। इसके अन्तर्गत सड़क को अतिक्रमणमुक्त करते हुए सड़क के किनारे ठेला, खोमचा लगाने वालों का व्यवस्थित करने के
साथ ही नगरों को स्वच्छ एवं सुन्दर बनाया जायेगा।